रोड पर आंटी के साथ सेक्स

हैलो दोस्तों, मेरा नाम प्रतीक है और कामलीला पर यह Antarvasna मेरी दूसरी कहानी है आशा करता हूँ की मेरा यह प्रयास आपको जरूर पसंद आएगा.
पहली बार सेक्स करने के बाद कुछ ज़्यादा ही सेक्स की याद आती है . हर रोज़ दिन मे 2 बार मूठ मारनी पड़ती थी. एक रात यूँ ही अचानक मेरी नींद खुल गयी और बहुत कोशिश करने के बाद भी वापस आँख नही लगी


मैने सोचा ज़रा नीचे घूम आते हैं और एक सिगरेट ही पी आते हैं. मैं अपनी सोसाइटी से बाहर निकला और रात के 4 बजे दुकान को ढूडने निकला. सोसाइटी से कुछ आगे एक दुकान मिली, उस से 2 सिगरेट लेने के बाद मे अपनी सोसाइटी की तरफ वापस लौट रहा थी की अचानक एक ऑटो मेरे पास आके रुका और उसमे 3 आंटीस बैठी थी रुकते के साथ ही वो मुझ से बोली, ‘मारेगा मेरी? चल आ जा’, मैं थोड़ा घबराया और मना कर के आगे बढ़ा पर वो मानी नही और उस ऑटो मे से 1 आंटी निकल कर मेरे पीछे आ गयी और बोली डर मत आराम से करूँगी, बस 200 ही लगेंगे’. मैं तोड़ा घबराया और बोला के ‘200 ज़्यादा हैं, 100 दूँगा’. वो थोड़ा मुस्कुराइ और बोली ‘ठीक हैं, 10 मिनिट ही कर सकता हैं फिर तो


(आंटी के बारे मे थोडा विस्तार से बता दूं आप लोगो को. वो करीब 40-45 साल की होगी, ज़्यादा बड़ी हाइट नही थी उनकी, बब्स बड़े थे और गांड सेक्सी थी! पूरा माल लग रही थी वो. लिपस्टिक उनकी लाल थी, जिस को देख के ही लंड खड़ा हो गया था मेरा)


मैं :- 10 मिनिट में मैंरा काम नही होगा


आंटी :- जितना देर लंड खड़ा रख सकता हैं, रख. हर 10 मिनिट के एक्सट्रा 100 लगेगे


मैं :- 500 दूँगा. रंडी नही, गर्ल फ्रेंड वाली फीलिंग चाहिए आंटी : , लगता तो तू बचा हैं पर हैं हरामी. 500 अभी दे, चोद लियो और बोबे दबा लियो.


मैं :- किस भी करूँगा आंटी : चल ठीक हैं, साइड मे आजा, पार्क में अंधेरा हैं


मैं :- कोई आ गया तो? आंटी : 4 बजे हैं, कोई मादरचोद भी इस टाइम नही आएगा. आएगा भी तो देख के चला जाएगा. तू टेन्सन ना ले, ऑटो यही खड़ा हैं मेरा, बाकी सहेलिया मेरी ध्यान रखेंगी हमारा


मैं :- अछा ठीक हैं, चलो फिर


मैं और आंटी फिर उस पार्क की तरफ बढ़े पर वो बाहर से लॉक्ड था. तभी आंटी मेरा हाथ पकड़ कर थोड़ा आगे ले गयी और एक दीवार के साथ चिपककर के खड़ी हो गयी हैं. काफ़ी अंधेरा था वहां, 1-2 गाड़ियाँ खड़ी थी हमारे आगे और वो खाली थी. सड़क पे सन्नाटा था!


आंटी ने फिर मेरा हाथ अपनी चूत पर रखा और कहा, ‘शुरू होज़ा हीरो’. मैने पहले उन्हे 500 पकड़ाए और फिर उसे किस करना स्टार्ट किया लिप्स पे, 2 मिनिट किस करने के बाद वो बोली, ‘बेडरूम नही हैं तेरा, जल्दी जल्दी हाथ चला’. मैने फिर उनके मोटे चुचो पे हाथ रखा और दबाना शुरू किया. उसने मेरे पजामे को नीचे किया और लंड हिला हिला के खड़ा कर दिया. फिर उसने अपनी ब्रा मे से कॉंडम का पॅकेट निकाला, मेरे लंड पे थूका और फिर कॉंडम चढ़ा दिया.


आंटी :- आजा हीरो


मैं :- जब तक निकलेगा नही, चोदना छोड़ूँगा नही


आंटी :- तुझे झड़वा के ही छोड़ूँगी!


आंटी ने मेरा लंड हाथ में लिया और अपनी चूत में घुसाया और मैं लंड को अंदर बाहर करता रहा और “छाप छाप” की आवाज़ काफ़ी तेज़ी से आती रही.
वो सर पीछे रख के मज़े ले रही थी और मैं उसे चोदता जा रहा था चोदते -चोदते मैने उसका सर पकड़ा और उसे किस करना स्टार्ट कर दिया वो थोडी आवाजें कर रही थी तो मैने चोदने की स्पीड बढ़ा दी और उसकी वजह से उसका मुहँ खुल गया और अब मैं उसे किस करने लगा 2 मिनिट के बाद मैने अपना हाथ उसके कुर्ते के अंदर डालना शुरू किया, उसने मुझे रोका और कहा ‘रुक ब्रा उतारने दे, कॉंडम पड़े हैं इसमे’


मेरा लंड उसकी चूत मे ही था और वो ब्रा उतार रही थी. जैसे ही उसने ब्रा उतारी मैं उसके नंगे बब्स पर टूट पड़ा ! उन्हे बुरी तरह दबाने लगा और साथ साथ चोदता रहा 15 मिनिट के बाद वो झड़ गयी और बोली, ‘बहनचोद! इतनी तसली से किसी ने नही चोदा बड़े टाइम से’. मैने कहा ‘अब मुझे भी तो झड़वा दे, कब से चोद रहा हूँ उसने मुझे कस के गले लगाया और कहा, ‘धीरे धीरे चोदना शुरू कर और एकदम से स्पीड बढ़ा दियो’. ऐसे कहते ही उसने मुझे किस किया और कहा ‘चल मेरे हीरो हो जा शुरू मैने जैसे उसने कहा, वैसा ही किया. उसने मुझे कस के गले लगा रखा था और मैं अपनी स्पीड बढाता चला गया. 2-3 मिनिट के बाद मुझे लगा मैं झड़ने वाला हूँ तो मैने उसे बताया और वो कहती रही,’आजाअ आजाअ आजाआ उसके कहने से ही मेरा जोश बढ़ा और मैं ज़ोर से आआआः बोल के झड़ गया. जैसी ही मैने अपना लॅंड बाहर निकाला, मैं नीचे बैठ गया वो मुझे देख के मुस्कुराइ और बोली ‘पैसे तो मुझे तुझे देने चाहिए वैसे, हीरो पर क्या करूँ मैं खड़ा हुआ और अपने कपड़े पहने , मेरे पास 2 सिगरेट थी, 1 उसे दी और एक खुद जला के पीनी स्टार्ट कर दी. जैसे ही उसने अपनी सिगरेट खत्म की, वो जाने लगी. मैने उस से नंबर माँगा तो वो बोली के उसके पास फोन नही हैं. “अगर किस्मत हुई तो किसी रात फिर मिलेंगे”


मैं उसके पीछे गया और उसके कंधे पे हाथ रख के उसे बुलाया और उसे रोड के बीच मे किस करना स्टार्ट कर दिया. वो भी साथ देती रही और हम ऐसे ही किस करते हैं. 5 मिनिट किस करने के बाद उसके ऑटो मे से आवाज़ आई, ‘और भी कस्टमर्स हैं, उसको छोड़ के आजा अब’. वो मुस्कुराइ और मेरे लंड को सहला कर बोली ‘बहुत मज़ा आया’ और चली गयी मैं फिर घर चला गया और शांति से जा के सो गया


थेंक्यू मेरी पिछली स्टोरी पे फीडबॅक देने के लिए, मैने 1-2 लेडीस के साथ सेक्स भी किया और पूरी प्राइवेसी की गारंटी भी दी हैं उन्हे! अगर कोई भी लेडी सेक्स करना चाहती हैं तो वो मुझे मैल कर सकती है


धन्यवाद् प्यारे पाठकों !!

Post a Comment

0 Comments